गैंगस्टर विकास दुबे का खास गुर्गा जय वाजपेयी गिरफ्तार; अब काली कमाई का राज खुलेगा, बेनामी खातों की तलाश शुरू

0
22
गैंगस्टर विकास दुबे का खास गुर्गा जय वाजपेयी गिरफ्तार; अब काली कमाई का राज खुलेगा, बेनामी खातों की तलाश शुरू



बिकरु के गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद कानपुर के ब्रह्मनगर में रहने वाले कारोबारी जयकांत उर्फ जयबाजपेई को पुलिस ने देर रात गिरफ्तार कर लिया। उस पर विकास को कारतूस सप्लाई करने की पुष्टि हुई है। इसके साथ मुठभेड़ में मारे गए बउवन के जीजा डब्बू को भी पकड़ाहै। दोनों के खिलाफ षड्यंत्र रचने और आर्म्स एक्ट की धारा में एफआईआर दर्ज की गई है। सोमवार को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेजा जाएगा। पुलिस जय को हिरासत में लेकर कई दिनों से पूछताछ कर रही थी।

कानपुर पुलिस ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करकेगिरफ्तारी की पुष्टि की। पुलिस नेबतायाकि 3 जुलाई की रात बिकरुगांव में दबिश देने गई पुलिस की टीम परविकास औरउसके साथियों ने फायरिंग की थी। इसमें 8 पुलिसवाले मारे गए थे।7 अन्य पुलिसवालेजख्मीहो गएथे।

जयकांत वाजपेयी पर विकास दुबे की मदद करने का आरोप
इस घटनाक्रम को लेकर थाना चौबेपुर में एक केस दर्ज किया गया था। जांच में पाया कि जयकांत बाजपेयीऔर उसका साथी प्रशांत शुक्ला उर्फ डब्बू ने घटना से पहले विकास की मदद की थी। 1 जुलाई को विकास ने जयकांत बाजपेयी को फोन करके कुछ रुपए के साथ कारतूस की मांग की थी।

2 जुलाई को गांव पहुंचकर जय ने विकास को 2 लाख रुपएनकद और 25 हजार रुपए के कारतूस दिए थे। घटना को अंजाम देने के बाद विकास और उसके साथियों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए जय 3 लग्जरी गाड़ी लेकर भीजा रहा था, लेकिन पुलिस की सक्रियता के चलते तीनों गाड़ियोंको थाना काकादेव इलाके में छोड़कर चला गया था। लंबी पूछताछ के बाद और साक्ष्य के आधार पर पुलिस ने जयकांत बाजपेई और प्रशांत शुक्ला पर केस दर्ज करके गिरफ्तार कर लिया।

मुठभेड़ के बाद काकदेव पुलिस ने बरामद की थी तीन अज्ञात गाड़ियां
घटना के बाद कानपुर में काकादेव पुलिस को सड़क पर तीन अज्ञात गाड़ियां खड़ी होने की जानकारी मिली थी। जांच करते हुए काकादेव पुलिस कारोबारी जयकांत तक पहुंच गई। घटना के एक दिन बाद से ही जयकांत पुलिस की हिरासत में था। पुलिस पहले ही दिन से जयकांत को विकास का खजांची होने का दावा कर रही थी।

बेनामी खातों की तलाश शुरू
विदेशों में संपत्ति की के बारे में जानकारी कर रही टीम को इस बात का अंदेशा है कि यह सौदा बेनामी खातों और हवाला नेटवर्क के जरिए किया गया है। आयकर टीम उन खातों और हवाला रैकेट तक पहुंचने की कोशिश करेगी। विदेशी संपत्तियों की छानबीन में छोटा-सा सुराग हाथ लगते ही फेमा के तहत कारवाई की तैयारी भी की जा रही है। विभाग इस बात की जांच कर रहा है कि विदेशों में यदि संपत्ति खरीदी गई तो पैसे कैसे ट्रांसफर किए गए। संपत्ति खरीद में लेन-देन के स्रोत तलाशे जाएंगे। अभी तक जय के बैंक खातों से इस बात के प्रमाण नहीं मिले हैं कि पैसे विदेशों में भेजे गए हों। अधिकारियों को संदेह है कि विदेशों में पैसा खपाने के लिए हवाला रैकेट का इस्तेमाल किया गया है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का सहयोगी और खजांची जय वाजपेयी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3jodJ1p

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here