राज्य में अब तक 67% मरीज रीकवर्ड; 24 घंटे में 685 नए केस आए तो 698 स्वस्थ हुए, 12 की मौत, नहीं होगी विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं

राज्य में अब तक 67% मरीज रीकवर्ड; 24 घंटे में 685 नए केस आए तो 698 स्वस्थ हुए, 12 की मौत, नहीं होगी विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं



उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले घट नहीं रहे हैं। बीते 24 घंटे में राज्य में 685 नए मामले सामने आए। इसके बाद अब राज्य में संक्रमितों की संख्या 22,828 हो गई है। वहीं, 12 और लोगों की मौत हो गई। कानपुर में दो और ललितपुर, बरेली, इटावा, मुजफ्फरनगर, फिरोजाबाद, गाजियाबाद, लखनऊ और मेरठ में एक-एक की मौत हुई। प्रदेश में अब तक कोरोना से 672 की जान जा चुकी है। हालांकि, ठीक होने वाले मरीजों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। एक दिन में 698 मरीज स्वस्थ्य हुए। अब तक कुल 67प्रतिशत रोगी ठीक हो चुके हैं। कोरोना के खतरे को देखते हुए यूपी के विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं नहीं होगी। शासन स्तर पर छात्रों को प्रमोट करने पर सहमति बन गई है।

राज्य में कोविड टेस्टिंग सात लाख के पार
स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि, प्रदेश में 6,650 एक्टिव केस हैं। जिनका अस्पताल में इलाज जारी है। अब तक कुल 15,506 मरीज ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। रिकवरी रेट इस समय 66.86% है। बताया कि, रविवार को प्रदेश में कुल 22,387 सैंपल की टेस्टिंग की गई। प्रदेश में सैंपल टे​स्टिंग का आंकड़ा 7 लाख पार कर चुका है। अब तक कुल 7,07,839 सैंपल की टेस्टिंग हुई है।

इन जिलों में आए 685 नए रोगी

गाजियाबाद में 70, नोएडा में 53, वाराणसी में 45, हापुड़ 41, कानपुर में 38, लखनऊ में 24, झांसी में 22, चंदौली में 19, आगरा में 18, जौनपुर, अलीगढ़, गोरखपुर में 17-17, शामली में 16, इटावा, संतकबीरनगर में 14-14, मेरठ, फर्रुखाबाद में 13-13, मुरादाबाद, हरदोई, मऊ में 12-12, पीलीभीत में 11, अयोध्या में 10, बाराबंकी, अमरोहा में 09-09, बुलंदशहर, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, बलिया, बलरामपुर, मैनपुरी, कासगंज में 08-08, सहारनपुर, देवरिया, मथुरा, बदायूं में 07-07, कौशांबी में 06, सुल्तानपुर, महाराजगंज, उन्नाव में 05-05, संभल, बरेली, भदोही, मिर्जापुर, सोनभद्र में 04-04, फिरोजाबाद, सिद्धार्थनगर, आजमगढ़, कन्नौज, जालौन में 03-03, गाजीपुर, रायबरेली, चित्रकूट, औरैया, प्रयागराज में 02-02, रामपुर, गोंडा, फतेहपुर, बागपत, श्रावस्ती, एटा, कानपुर देहात, शाहजहांपुर, कुशीनगर में 01-01 मरीज मिले हैं।

दो जुलाई को होगी अधिकारिक घोषणा
कोरोना के खतरे को देखते हुए यूपी के विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं नहीं होंगी। शासन स्तर पर परीक्षाएं रद्द करने को लेकर सैद्धांतिक सहमति बन गई है। केंद्र की अनलॉक-2 का अध्ययन करने के बाद दो जुलाई को इसकी अधिकारिक घोषणा हो सकती है। फिलहाल 48 लाख से अधिक विद्यार्थियों के प्रमोशन के फॉर्मूले पर मंथन चल रहा है।दरअसल, राज्य विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं शुरु हुई थी कि, लॉकडाउन हो गया था। अब अनलॉक-1 के दौरान लखनऊ, गोरखपुर सहित अन्य विश्वविद्यालयों में परीक्षा के कार्यक्रम जारी कर दिए गए थे। इसको लेकर शिक्षक और छात्र दोनों ओर से विरोध के स्वर उठने लगे थे। शनिवार को उच्च शिक्षा विभाग ने मेरठ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर एके तनेजा की अगुवाई में चार कुलपतियों की कमेटी बनाकर तीन दिन में रिपोर्ट मांगी थी। कमेटी ने परीक्षाएं रद्द करने की सिफारिश की है। परीक्षार्थियों को अंतिम परीक्षा के बेस्ट या औसत के आधार पर अंक दिए जाएं, इस पर आगे फैसला होगा।

कोरोना के सर्विलांस के साथ संचारी रोग से बचाव भी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार सुबह कोविड-19 की टीम इलेवन के साथ एक से 31 जुलाई तक संचालित किए जाने वाले संचारी रोग नियंत्रण अभियान की तैयारियों की समीक्षा की। सीएम ने कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र आदि को संचारी रोग के संबंध में सतर्क रखा जाए। स्वच्छता के सम्बन्ध में कोई शिथिलता नहीं होनी चाहिए। उन्होंने गौतमबुद्ध नगर तथा गाजियाबाद के साथ ही पूरे मेरठ मंडल में पूरी सतर्कता तथा सावधानी बरते जाने का निर्देश दिया है। बता दें कि, एक जुलाई से ही कोरोना के संक्रमितों की पहचान के लिए सर्विलांस भी शुरू किया जाएगा।

सभी विभागों में बने कोविड हेल्प डेस्क

सीएम ने कहा किटेस्टिंग क्षमता बढ़ाने हेतु संसाधनों का पूरा उपयोग किया जाए। ट्रूनैट मशीनों तथा रैपिड एन्टीजेन टेस्ट मशीनों को पूरी क्षमता से संचालित करते हुए ज्यादा से ज्यादा टेस्ट किए जाएं। निजी अस्पतालोंमें ट्रूनैट मशीनों के प्रयोग के बढ़ावा दिया जाए। सीएम ने कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना के कार्य को तेज गति से जारी रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सभी विभागों एवं संस्थाओं में ‘कोविड हेल्प डेस्क’ स्थापित की जाए। निजी चिकित्सालयों को हेल्प डेस्क की स्थापना के लिए प्रेरित किया जाए।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

यह तस्वीर वाराणसी की है। कोरोना के खतरे के चलते घाटों पर पर्यटकों की आवाजाही न के बराबर है। ऐसे में नावें घाट किनारे खड़ी हैं। करीब तीन माह बाद यहां नाविकों को नाव संचालन की मंजूरी दी गई थी।

from Dainik Bhaskar https://ift.tt/38aCyZG

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *